Connect with us

Maharashtra

सेन हथाई ग्रुप: पुणे में जुटे विभिन्न राज्यों के भामाशाह

Published

on

भाई सैण हथाई ग्रुप का पहला स्नेह मिलन समारोह पुणे में संपन्न हुआ। इस समारोह में देश के विभिन्न शहरों से आये समाज सेवी एवं भामाशाह मौजूद थे।

पुणे। भाई सैण हथाई ग्रुप में विभिन्न शहरों से भामाशाह शामिल है। इस ग्रुप का उद्देश्य जरूरतमंदों की आर्थिक मदद करना है। इस ग्रुप का पहला स्नेह मिलन समारोह 28 और 29 सितंबर को पूणे में संपन्न हुआ।

कालू महाराज गेहलोत और भागीरथ टांक पूना

यह कार्यक्रम पुणे सैन समाज के आधार स्तंभ एवं प्रमुख समाजसेवी भागीरथ टांक और कालू महाराज गेहलोत की गरीमामय मौजूदगी में संपन्न हुआ। कार्यक्रम में सैन हथाई ग्रुप की भावी योजनाओं पर विचार हुआ। ग्रुप का उद्देश्य सैन समाज के वास्तविक जरुरतमंदों की ईलाज, पढ़ाई और शादी में मदद करना है। सूरत में विवाह समारोह में वर-वधुओं को आर्थिक मदद की घोषणा की गई। इस संगठन से करीब 270 भामाशाह और समाजसेवी जुड़े हुये है।

पुखराज राठौड़, हस्तीमल सैन, ओमप्रकाश सैन, नरपत सैन, मदन सैन, सुरेश भाटी, बुधाराम परिहार, मदनलाल सैन, बाबुलाल सैन, गमनाराम सैन, पारसमल पटाव, राजेन्द्र कुमार सैन, भारमल टांक, पुखराज टांक, मुकेश परमार, लालाराम सैन, चम्पालाल परमार,चौथाराम सैन, पप्पू सैन मुंबई, आशुलाल लोको पायलट, जगदीश सैन पनावड़ा रिपोर्टर, शेखर सैन बोरिवली, सताराम बाड़मेर, सतीश सैन मांगता, सुमित सैन, ताराचंद सैन, घनश्याम सैन समेत सूरत, मुंबई, राजस्थान, बेंगलुरु समेत कई शहरों से आये बड़ी संख्या में समाजसेवी भामाशाह मौजूद थे।

पहला स्नेह मिलन समारोह 28 और 29 सितंबर को पूणे में संपन्न हुआ।

पुणे सैन समाज अध्यक्ष चेनाराम टांक, नेनाराम जयपाल, ठाकराराम सोलंकी, जोगाराम राठौड़, मांगीलाल बनभेरू, राजू बनभेरू, नरेन्द्र फुलडालिया, प्रतापराम देवड़ा, अशोक परमार, राजू राठौड़, महेश सोलंकी, जसराज भाटी, श्रवण भाटी, प्रकाश सोलंकी, गौतम परमार, राजेंन्द्र सेन पटाऊ, राधाकिशन तवंर, वसंत राठौड़ ने सभी अतिथियों का मोतियों की माला और साफा पहनाकर स्वागत किया।

CISF में ‘नाई’ की वेकन्सी, 22 अक्टूबर तक कर सकते है अप्लाई

रक्षा मंत्री की भूमिका में नजर आई समाज की यह बेटी

सैन (नाई) समाज के ताजा सामाचार प्राप्त करने के लिये फेसबुक पर लाइक करें और ट्विटर पर फॉलो करें। सैन समाज से जुड़ी जानकारी एवं समाचार आप हमारे माध्यम से पूरे समाज के साथ शेयर करें। यदि आपके पास कोई जानकारी या सूचना है तो हमें आवश्य भेजे। WHATSAPP NO. 8003060800.

 

Spread the love
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Maharashtra

पुणे में संपन्न हुआ स्नेह मिलन समारोह, देखें तस्वीरें

Published

on

पुणे में सैन जी महाराज की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा की जायेगी। इस निमित्त दो दिवसीय स्नेह मिलन समारोह संपन्न हुआ। इस अवसर पर सैनाचार्य श्रीश्री 1008 अचलानंद गिरी महाराज और समाज के भामाशाह मौजूद थे।

पुणे। पुणे में सैनजी महाराज के मंदिर में प्रतिष्ठा के निमित्त दो दिवसीय स्नेह मिलन समारोह 16 और 17 नवंबर को संपन्न हुआ।

समारोह के मुख्य अतिथि मुख्य अतिथि श्रीश्री 1008 सैनाचार्य स्वामी अचलानंद गिरी महाराज, पीठाधीश्वर अखिल भारतीय सैन भक्ति पीठ जोधपुर थे। इस अवसर पर उन्होंने समाज की एकता और उत्थान के लिये भामाशाहों से आगे आने का आह्वान किया। इस दो दिवसीय कार्यक्रम में भजन संध्या और कई सांस्कृतिक कार्यक्रम हुये। कार्यक्रम में देश के विभिन्न इलाकों से सैन समाज के भामाशाह और गणमान्य लोग शामिल हुये।

संस्था के पदाधिकारियों की ओर से भामाशाहों का साफा और माला पहनाकर स्वागत किया गया। भामाशाहों ने भी मंदिर प्राण प्रतिष्ठा में हरसंभव सहयोग की घोषणा की। इस दो दिवसीय आयोजन में श्री राजस्थानी सैन सेवा मंडल पुणे के आधारस्तंभ भागीरथ टांक और कालू महाराज, पदाधिकारी अध्यक्ष चेनाराम टांक, उपाध्यक्ष जोगाराम राठौड़, उपाध्यक्ष नरेन्द्र फुलडालिया, कोषाध्यक्ष राजू बणवीर, सेकेट्री चुन्नीलाल सैन, डिप्टी सेकेट्री श्रवण मुकूंदगडीया, उप कोषाध्यक्ष राधाकृष्ण तंवर, कार्यध्यक्ष ठाकराराम सोंलकी, उप कार्यअध्यक्ष दिनेश टांक, सेकेट्री नंदकिशोर सुरग, कार्यप्रमुख राजू राठोड़, ट्रस्टी पन्नालाल सैन, जवाहरलाल भाटी, बाबु लाल भाटी, मुकेश कुमार टांक, महेन्द्रलाल सैन, नेनाराम जयपाल, हनुमानलाल सांखला, डायाराम राठौड़, अशोक कुमार परमार, कालूराम भाटी, गोविंदलाल चौहान, सोहनलाल सोनीवाल, चम्पालाल जयपाल, जिवाराम खवास, जैसाराम भाटी आदि भी मौजूद थे।

 

सैन (नाई) समाज के ताजा सामाचार प्राप्त करने के लिये फेसबुक पर लाइक करें और ट्विटर पर फॉलो करें। सैन समाज से जुड़ी जानकारी एवं समाचार आप हमारे माध्यम से पूरे समाज के साथ शेयर करें। यदि आपके पास कोई जानकारी या सूचना है तो हमें आवश्य भेजे। WHATSAPP NO. 8003060800.

नारायणी माता और सैनजी की मूर्तियां स्थापित होगी

 

Spread the love
Continue Reading

Maharashtra

सविता समाज का 27वां दीपावली स्नेह मिलन समारोह

Published

on

सविता समाज संस्था की ओर से दीपावली स्नेह मिलन समारोह 9 नवंबर को मुंबई में आयोजित किया जायेगा। इस अवसर पर विभिन्न कार्यक्रम होंगे।

मुंबई। सविता समाज संस्था का 27वां दीपावली स्नेह मिलन समारोह 9 नवंबर 2019 को आयोजित होगा। समारोह राष्ट्रीय मिल मजदूर संघ महात्मा गांधी सभागृह, मजदूर मंजिल, गं.द. आंबेकर मार्ग, परेल भोईवाड़ा, मुंबई में शाम 4 बजे से शुरु होगा। इस अवसर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित होंगे।

कार्यक्रम की शुरुआत वर-वधु परिचय सम्मेलन से होगी। इसके बाद हल्दी कुमकुम का कार्यक्रम होगा। शाम पांच बजे संजय शर्मा गजल कार्यक्रम प्रस्तुत करेंगे। इसके बाद अतिथियों, समाज सेवियों, वरिष्ठ नागरिकों और प्रतिभावान विद्यार्थियों का सम्मान होगा। आयोजकों के अनुसार, कार्यक्रम स्थल तक पहुंचने के लिये दादर पूर्व आगे के ब्रिज के पास से टाटा हॉस्पिटल के लिये शेयरिंग टैक्सी की सुविधा उपलब्ध रहेगी। समारोह के मुख्य अतिथि रामबश खे. शर्मा और महाराष्ट्र राज्य केश शिल्प मंडल के अध्यक्ष सुधीर राउत होंगे।

नारायणी धाम: पानी कितने साल से आ रहा हैं, जानकार रह जायेंगे हैरान

कबड्डी में अजय कर रहा है नाम रोशन

सैन (नाई) समाज के ताजा सामाचार प्राप्त करने के लिये फेसबुक पर लाइक करें और ट्विटर पर फॉलो करें। सैन समाज से जुड़ी जानकारी एवं समाचार आप हमारे माध्यम से पूरे समाज के साथ शेयर करें। यदि आपके पास कोई जानकारी या सूचना है तो हमें आवश्य भेजे। WHATSAPP NO. 8003060800.

 

Spread the love
Continue Reading

Haryana

सैन जी महाराज की पुण्यतिथि, सैन मंदिरों में विशेष पूजा

Published

on

sain samaj, sen community, nai community india, savita, napit,

संत शिरोमणि सैन महाराज की पुण्यतिथि मंगलवार को है। इस अवसर पर देश भर में सैन मंदिरों में विशेष कार्यक्रम आयोजित किये गये।

सोहला में सैन जी की पुण्यतिथि मनाई गई

सैन समाज के आराध्य सैन जी महाराज की पुण्यतिथि मंगलवार 27 अगस्त 2019 को है। इस मौके पर सैन समाज द्वारा संचालित सैन मंदिरों में विशेष पूजा अर्चना की गई है।

श्री गणेशराम टांक सेन सेवा ट्रस्ट की ओर से श्री राजगुरू संत सेना महाराज की पुण्यतिथि पर वरिष्ठ नागरिक सम्मान समारोह आयोजित किया जा रहा है। यह कार्यक्रम अहमदनगर के संगमनेर स्थित गणेश मंदिर में होगा। कार्यक्रम की शुरुआत सत्यनारायण पूजा से हुई। दोपहर में भजन और सेन जी महाराज की आरती का कार्यक्रम हुआ। इसके बाद सम्मान समारोह एवं प्रसादी कार्यक्रम आयोजित किया गया।

राजस्थानी सैन समाज सेवा मंडल पुणे की ओर से सैन जी महाराज की पुण्यतिथि मनाई गई। इस अवसर पर मंदिर सैन जी महाराज की विशेष पूजा अर्चना की गई।रविन्द्र जगदाले ने इस मौके पर मर्दानी खेलों और शस्त्रों का प्रदर्शन किया।

राजू राठौड़ ने बताया कि इस अवसर पर मंदिर में सैन जी महाराज की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम को लेकर भी विचार—विमर्श हुआ। यह कार्यक्रम दो दिवसीय होगा और ये नवरात्रि के बाद तथा दिवाली से पूर्व आयोजित किया जायेगा। इस कार्यक्रम में प्राण प्रतिष्ठा के लिये बोली लगाई जायेगी।

श्री सैनजी का जन्म 13वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में बांधवगढ़ में हुआ। इस क्षेत्र को आजकल रीवा के नाम से जाना जाता है। कटनी से विलासपुरा जाने वाली रेलवे लाइन पर उमरिया नामक स्टेशन से उत्तर पूर्व में करीब 18 मील दूर बांधवगढ़ दुर्ग है। इनके पिता का नाम श्रीचंद्र एवं माता का नाम सुशीला व कांता था। इनका विवाह विजयनगर म.प्र. के राज वैद्य शिवैया की सुपुत्री गजरा दे के साथ हुआ था।

इनके पुत्र का नाम भद्रसेन थे। सैनजी बचपन से ही शक्ति संपन्न थे और सौर कार्य में भी निपुण थे। वे बांधवगढ़ के राजा के यहां क्षौरकार्य करते थें। सैनजी ने स्वामी रामानंदजी से दीक्षा प्राप्त की। दीक्षित होकर साधु-संतों की सेवा व सत्संग में प्रवचन के माध्यम से भक्ति ज्ञान, वैराग्य संत सेवा की शिक्षा ज्ञान भी देते, सैन भक्त विष्णु के अनन्य उपासक थे।

सैन (नाई) समाज के ताजा सामाचार प्राप्त करने के लिये फेसबुक पर लाइक करें और ट्विटर पर फॉलो करें। सैन समाज से जुड़ी जानकारी एवं समाचार आप हमारे माध्यम से पूरे समाज के साथ शेयर करें। यदि आपके पास कोई जानकारी या सूचना है तो हमें आवश्य भेजे। WHATSAPP NO. 8003060800.

Spread the love
Continue Reading
Advertisement

Facebook

कुलदेवी

My Kuldevi3 weeks ago

श्रीबाण माता को कुलदेवी के रूप में पूजते है ये परिवार

श्री बाण माता का मुख्य मंदिर राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में स्थित है। ब्राह्मणी माता, बायण माता और बाणेश्वरी माता जी...

Feature11 months ago

जमवाय माता को सैन समाज के कई परिवार मानते है कुलदेवी

जमवाय माता भगवान राम के पुत्र कुश के वंश कछवाहा की कुलदेवी है। सैन समाज में कुछ परिवार ऐसे हैं...

Feature12 months ago

सैन समाज के कई परिवारों की कुलदेवी है जीण माता

जीण माता कई परिवार एवं गोत्रों की कुलदेवी है। सैन समाज में भी कई गोत्र ऐसे हैं जो जीण भवानी...

Feature1 year ago

गलाना गांव में है इस गोत्र की कुलदेवी का प्राचीन मंदिर

गलाना गांव में  प्राचीन मंदिर आस्था का केंद्र है। यह गांव कोटा में जिला मुख्यालय से करीब 18 किमी दूर...

Feature1 year ago

भादरिया माता को कुलदेवी के रूप में पूजते है ये

श्री भादरिया माता का मंदिर जन-जन की आस्था का केंद्र है। विभिन्न समाजों में कई परिवारों में माता को कुलदेवी...

Feature1 year ago

कुलदेवी के रूप में होती है ‘मां नागणेची’ की पूजा

कई परिवारों में कुलदेवी के रूप में मां नागणेची की पूजा की जाती है। मां नागणेची को नागणेच्या, चक्रेश्वरी, राठेश्वरी...

Feature1 year ago

इन गोत्रों में कुलदेवी की रूप में पूजी जाती सच्चियाय माता

सैन समाज के विभिन्न गोत्रों की कुलदेवी परिचय की श्रंखला में प्रस्तुत हैं सच्चियाय माता की जानकारी। सच्चियाय माता का...

Feature1 year ago

सैन समाज के इन गोत्रों के लिये खास है हजारों साल पुराना देवी का यह मंदिर

अर्बुदा देवी मंदिर को अधर देवी के नाम से भी जाना जाता है। मां अर्बुदा, मां कात्यायनी का ही रुप...

Feature1 year ago

नारायणी धाम: पानी कितने साल से आ रहा हैं, जानकार रह जायेंगे हैरान

नारायणी धाम पर कुंड से अटूट जलधारा का रहस्य आज भी कोई नहीं जान सका है। पानी की धार लगातार...

Feature1 year ago

कर्मावती कौन थीं और कैसे बन गई नारायणी, जानिये

विजयराय और रामहेती के घर एक बालिका जन्मी। नाम रखा गया कर्मावती। सयानी होने पर उनका विवाह करणेश जी के...

Trending

Don`t copy text!