Connect with us

Jaharkhand News

स्वास्थ्य मंत्री ने नाई समाज से मांगी माफी, अपशब्द बोल किया था अपमान

Published

on

झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता

झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री ने पहले नाई समाज के लिए अपमानजनक भाषा का प्रयोग किया। इसको लेकर जब समाज में गुस्सा भड़क उठा, पुतले जलाए गए और सीएम तक शिकायत हुई। आखिर, उन्होंने माफी मांग कर इस विवाद को समाप्त करने का प्रयास किया। हालांकि अभी मामला गरमाया हुआ है।

झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने गुरुवार को नाई समाज से माफी मांगी है। स्वास्थ्य मंत्री ने ट्वीट कर कहा कि ‘मेरे नाई समाज के तमाम सम्मानित साथियों, मुझसे गलती से बोलचाल की आम भाषा ही मेरे मुंह से निकल आया, लेकिन मैंने तुरंत अपने शब्दों को बदल दिया। मुझे पता है कि मेरे सामाजिक न्याय के सभी साथियों और समाज के तमाम लोगों को इस बात से दुख पहुंचा होगा, इसके लिए मैं सहृदय क्षमाप्रार्थी हूं।’

सैन समाज के गोत्र

दरअसल, झारखंड में अनलॉक 2 के दौरान स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने नाई जाति को लेकर अपमानजनक शब्द का प्रयोग किया। इससे आहत नाई समाज ने झारखंड में उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया। ​रांची समेत राज्य के विभिन्न शहरों में स्वास्थ्य मंत्री के पुतले जलाए गए। नाई समाज से जुड़े विभिन्न संगठनों ने बन्ना गुप्ता पर कार्रवाई की मांग को लेकर आंदोलन की भी चेतावनी दी। भाजपा के कुछ संगठन भी नाई समाज के साथ नजर आए।

कोरोना महामारी में फिर मिसाल बना श्रीडूंगरगढ़ का यह नाई परिवार

अखिल भारतीय नाई संघ, झारखंड युवा नाई संघ के अध्यक्ष राजू ठाकुर और रंजन ठाकुर, अखिल भारतीय नाई संघ ट्रेड यूनियन प्रदेश अध्यक्ष विजय ठाकुर, रांची जिला शाखा के कार्यवाहक अध्यक्ष अवधेश ठाकुर, जिला महासचिव मनोज कुमार शर्मा, निगरानी अध्यक्ष अनुज कुमार ठाकुर, वरिष्ठ संरक्षक मंडल के पदाधिकारी सूरज नाथ ठाकुर, रामवृक्ष ठाकुर, त्रिवेणी ठाकुर, वीरेंद्र ठाकुर सहित अनेक लोगों ने स्वास्थ्य मंत्री की निंदा की थी।

सैन (नाई) समाज के ताजा सामाचार प्राप्त करने के लिये फेसबुक पर लाइक करें और ट्विटर पर फॉलो करें। सैन समाज से जुड़ी जानकारी एवं समाचार आप हमारे माध्यम से पूरे समाज के साथ शेयर करें। यदि आपके पास कोई जानकारी या सूचना है तो हमें आवश्य भेजे। WHATSAPP NO. 8003060800.

Spread the love
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Advertisement

Facebook

कुलदेवी

My Kuldevi1 year ago

श्रीबाण माता को कुलदेवी के रूप में पूजते है ये परिवार

श्री बाण माता का मुख्य मंदिर राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में स्थित है। ब्राह्मणी माता, बायण माता और बाणेश्वरी माता जी...

Feature2 years ago

जमवाय माता को सैन समाज के कई परिवार मानते है कुलदेवी

जमवाय माता भगवान राम के पुत्र कुश के वंश कछवाहा की कुलदेवी है। सैन समाज में कुछ परिवार ऐसे हैं...

Feature2 years ago

सैन समाज के कई परिवारों की कुलदेवी है जीण माता

जीण माता कई परिवार एवं गोत्रों की कुलदेवी है। सैन समाज में भी कई गोत्र ऐसे हैं जो जीण भवानी...

Feature2 years ago

गलाना गांव में है इस गोत्र की कुलदेवी का प्राचीन मंदिर

गलाना गांव में  प्राचीन मंदिर आस्था का केंद्र है। यह गांव कोटा में जिला मुख्यालय से करीब 18 किमी दूर...

Feature2 years ago

भादरिया माता को कुलदेवी के रूप में पूजते है ये

श्री भादरिया माता का मंदिर जन-जन की आस्था का केंद्र है। विभिन्न समाजों में कई परिवारों में माता को कुलदेवी...

Feature2 years ago

कुलदेवी के रूप में होती है ‘मां नागणेची’ की पूजा

कई परिवारों में कुलदेवी के रूप में मां नागणेची की पूजा की जाती है। मां नागणेची को नागणेच्या, चक्रेश्वरी, राठेश्वरी...

Feature2 years ago

इन गोत्रों में कुलदेवी की रूप में पूजी जाती सच्चियाय माता

सैन समाज के विभिन्न गोत्रों की कुलदेवी परिचय की श्रंखला में प्रस्तुत हैं सच्चियाय माता की जानकारी। सच्चियाय माता का...

Feature2 years ago

सैन समाज के इन गोत्रों के लिये खास है हजारों साल पुराना देवी का यह मंदिर

अर्बुदा देवी मंदिर को अधर देवी के नाम से भी जाना जाता है। मां अर्बुदा, मां कात्यायनी का ही रुप...

Feature3 years ago

नारायणी धाम: पानी कितने साल से आ रहा हैं, जानकार रह जायेंगे हैरान

नारायणी धाम पर कुंड से अटूट जलधारा का रहस्य आज भी कोई नहीं जान सका है। पानी की धार लगातार...

Feature3 years ago

कर्मावती कौन थीं और कैसे बन गई नारायणी, जानिये

विजयराय और रामहेती के घर एक बालिका जन्मी। नाम रखा गया कर्मावती। सयानी होने पर उनका विवाह करणेश जी के...

Trending

Don`t copy text!