Connect with us

हमारे बारे में

बहुत सी संस्थायें और संगठन सैन समाज में है। हर संगठन अपने स्तर पर समाज की एकता और उत्थान के लिये काम कर रहा हैं। इन संगठनों का प्रयास सराहनीय है। देश के अधिकांश प्रमुख समाचार पत्रों की बाजारवादी नीतियों या और भी कई वजह हैं, जिनसे इन संगठनों के अच्छे कामों को पब्लिसिटी अपेक्षा के अनुरूप नहीं मिल पाती। हमारी ताकत को नजरंदाज किया जाता है।

हमारा काम समाज की ताकत बने। इस सोच के साथ सैन इंडिया डॉट काम शुरू किया गया है। इस बेव पोर्टल को शुरू करने से पहले हमारी टीम समाज के कई प्रबुद्ध लोगों से मिली। उनकी राय ली। उसके आधार पर सैन इंडिया डॉट कॉम का प्रारंभिक मॉड्यूल तैयार किया है। यह शुरूआत है। आपके अमूल्य सुझावों के आधार पर इसमें बदलाव लगातार देखने को मिलेंगे। बिना किसी भेदभाव के सैन इंडिया समाज से जुड़ी हर महत्वपूर्ण घटना, समाचार को कवर करें, इसके प्रयास किये जायेंगे।

निवेदन आप सभी से

  • समाज के कार्यक्रमों, समाज की प्रतिभाओं, समाज की धरोहर आदि की जानकारी हमारे साथ जरूर साझा करें।
  • sainindia.com को आगे बढ़ाने के लिये यहां प्रकाशित समाचार और लेखों को सोशल मीडिया साइट्स पर जरूर शेयर करें।

Sain India पर जो जानकारी प्रकाशित की जा रही है वह विभिन्न स्रोतों से जुटाई जाती है। किसी तथ्य को लेकर यदि कोई संशय, शंका या आपत्ति तो आवश्य बतायें। यथा संभव उसे दूर करने का प्रयास किया जायेगा। हमारा प्रयास रहेगा कि कोई गलत तथ्यों के आधार पर जानकारी प्रसारित नहीं हो।

आपका यहा सहयोग हमारे से काफी महत्व है। आप किसी भी सुझाव या जानकारी के लिये कभी भी हमारी टीम से मोबाइल पर या व्यक्तिगत रूप से संपर्क कर सकते है। सहयोग के लिये धन्यवाद।

Spread the love
Advertisement

Facebook

कुलदेवी

My Kuldevi2 years ago

श्रीबाण माता को कुलदेवी के रूप में पूजते है ये परिवार

श्री बाण माता का मुख्य मंदिर राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में स्थित है। ब्राह्मणी माता, बायण माता और बाणेश्वरी माता जी...

Feature3 years ago

जमवाय माता को सैन समाज के कई परिवार मानते है कुलदेवी

जमवाय माता भगवान राम के पुत्र कुश के वंश कछवाहा की कुलदेवी है। सैन समाज में कुछ परिवार ऐसे हैं...

Feature3 years ago

सैन समाज के कई परिवारों की कुलदेवी है जीण माता

जीण माता कई परिवार एवं गोत्रों की कुलदेवी है। सैन समाज में भी कई गोत्र ऐसे हैं जो जीण भवानी...

Feature3 years ago

गलाना गांव में है इस गोत्र की कुलदेवी का प्राचीन मंदिर

गलाना गांव में  प्राचीन मंदिर आस्था का केंद्र है। यह गांव कोटा में जिला मुख्यालय से करीब 18 किमी दूर...

Feature3 years ago

भादरिया माता को कुलदेवी के रूप में पूजते है ये

श्री भादरिया माता का मंदिर जन-जन की आस्था का केंद्र है। विभिन्न समाजों में कई परिवारों में माता को कुलदेवी...

Feature3 years ago

कुलदेवी के रूप में होती है ‘मां नागणेची’ की पूजा

कई परिवारों में कुलदेवी के रूप में मां नागणेची की पूजा की जाती है। मां नागणेची को नागणेच्या, चक्रेश्वरी, राठेश्वरी...

Feature3 years ago

इन गोत्रों में कुलदेवी की रूप में पूजी जाती सच्चियाय माता

सैन समाज के विभिन्न गोत्रों की कुलदेवी परिचय की श्रंखला में प्रस्तुत हैं सच्चियाय माता की जानकारी। सच्चियाय माता का...

Feature3 years ago

सैन समाज के इन गोत्रों के लिये खास है हजारों साल पुराना देवी का यह मंदिर

अर्बुदा देवी मंदिर को अधर देवी के नाम से भी जाना जाता है। मां अर्बुदा, मां कात्यायनी का ही रुप...

Feature3 years ago

नारायणी धाम: पानी कितने साल से आ रहा हैं, जानकार रह जायेंगे हैरान

नारायणी धाम पर कुंड से अटूट जलधारा का रहस्य आज भी कोई नहीं जान सका है। पानी की धार लगातार...

Feature3 years ago

कर्मावती कौन थीं और कैसे बन गई नारायणी, जानिये

विजयराय और रामहेती के घर एक बालिका जन्मी। नाम रखा गया कर्मावती। सयानी होने पर उनका विवाह करणेश जी के...

Don`t copy text!