Connect with us

News

पदयात्रायें रवाना, जगह-जगह स्वागत से भाव-विभोर हुये पदयात्री

Published

on

नारायणी धाम अलवर के लिये जयपुर, जोबनेर, चौमूं और अन्य कई क्षेत्रों से पदयात्रायें रवाना हुई। समाज के विभिन्न संगठनों और संस्थाओं की ओर से पदयात्रियों का जगह-जगह स्वागत किया गया।

जयपुर। राजधानी जयपुर में आज सैनजी महाराज और नारायणी माता के जैकारे गूंजते रहे। नारायणी धाम अलवर के लिये जयपुर, चौमू, जोबनेर समेत कई इलाकों से पदयात्रायें सोमवार, एकादशी के दिन रवाना हुई।

पदयात्रियों का सुभाष चौक पर स्वागत

सतगुरु श्री सैन जी महाराज, नारायणी धाम अलवर के लिये 23वीं पदयात्रा अजमेर रोड़ डीसीएम से रवाना हुई। केशकला बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष मोहन मोरवाल, नारायणी सेना के अध्यक्ष सुनील गहलोत समेत तथा श्री सैन समाज सेवा समिति एवं श्री नारायणी धाम डीसीएम पदयात्रा प्रबंध समिति के पदाधि​कारियों ने ध्वज पूजा कर पदयात्रियों को रवाना किया।

नारायणी धाम अलवर के लिये जयपुर, जोबनेर, चौमूं और अन्य कई क्षेत्रों से पदयात्रायें रवाना हुई।

श्री बड़े हनुमानजी मंदिर, 80फीट रोड, संजय नगर डीसीएम अजमेर रोड़ जयपुर से रवाना होकर पदयात्री सोड़ाला, अजमेर पुलिया, गवर्नमेंट हॉस्टल, एमआई रोड, सांगानेर गेट, बड़ी चौपड़, सुभाष चौक, जोरावर सिंह गेट, आमेर रोड, रामगढ़ मोड़, बंध की घाटी, रामगढ़ रोड़ स्थित श्रीरामवी हनुमान मंदिर पहुंचे। यहां रात्रि विश्राम होगा। इस दौरान रास्ते में जगह—जगह पदायात्रियों को स्वागत किया गया।

पदयात्रियों का सुभाष चौक पर स्वागत

जोबनेर से आये बड़ी संख्या में पदयात्री डीसीएम पर इस मुख्य पदयात्रा में शामिल हो गये। इसके अतिरिक्त अन्य जगह से भी पदयात्री यहां पहुंचे। सायपुरा, जमवारामगढ़, आंधी, डांगरवाड़ा, नाथावाला, गोला का वास होते हुये 13 सितंबर को अलवर स्थित नारायणी धाम पहुंचेगी।

समिति के अनुसार, पदयात्रा का रात्रि विश्राम 9 सितंबर को श्रीरामवीर हनुमान मंदिर लालवास बन्धा जमवारामगढ़ रोड़, 10 सितंबर को जमवाय माता, 11 सितंबर को तेजाजी मंदिर डांगरवाड़ा, 12 सितंबर को सरसा माता गोला का वास में होगा। 13 सितंबर को पदयात्रा नारायणी धाम पहुंचेगी। जहां भव्य स्वागत होगा। इस अवसर पर भजन संध्या होगी। 14 सितंबर को प्रात: मंगल कलश यात्रा, शोभायात्रा और भंडारे का आयोजन होगा। 13 और 14 सितंबर को नारायणी धाम में विभिन्न स्थानों से पदयात्रायें पहुंचती है और इनका महासंगम होता है। इस अवसर पर हजारों भक्त यहां पवित्र जलधारा में स्नान करते है।

चौमूं से भी रवाना हुई पदयात्रा

नारायणी धाम अलवर के लिये चौमूं से भी पदयात्रा रवाना हुई। शिव शक्ति सैन संगठन, धूणी नाइयों की ढाणी, निवाणा से पदयात्रा रविवार को रवाना हुई। इसमें बड़ी संख्या में पदयात्री शामिल है।

चौमूं से पदयात्रा

 

पांचवी पदयात्रा रवाना

सैन मंदिर, मुरलीपुरा जयपुर से नारायणी धाम के लिये पांचवीं पदयात्रा सोमवार को धूमधाम से रवाना हुई। पदयात्रा गणेश नारायण सैन के नेतृत्व में आयोजित की गई है। पदयात्रा का क्षौरकार विकास समिति एवं सैन समाज विधाधर नगर के पदाधिकारियों ने स्वागत किया।

नारायणी धाम के लिये पांचवीं पदयात्रा

नारायणी धाम के लिये प्रथम पदयात्रा रवाना

जयसिंहपुरा खोर, जयपुर से नारायणी धाम के लिये पदयात्रा रवाना हुई। श्री नारायणी सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष और भाजपा ओबीसी मोर्चा के प्रदेश मंत्री सुनील गहलोत ने ध्वज पूजन कर पदयात्रा को अलवर के लिये रवाना किया। इस अवसर पर श्री नारायणी सेना के प्रदेश प्रधान महासचिव भगवान सहाय सैन रायसर, सैन सभा अध्यक्ष राजेश चांगिल, उप संरक्षक परसराम दनाऊ, वार्ड 90 के पार्षद ग्यारसी लाल माली, सरोज भाटी, कमलेश श्री माधोपुर आदि का समिति की ओर से लल्लू खोर, लालचंद सैन, राधेश्याम आदि ने स्वागत किया।

जयसिंहपुरा खोर, जयपुर से नारायणी धाम के लिये पदयात्रा रवाना हुई।

सैन (नाई) समाज के ताजा सामाचार प्राप्त करने के लिये फेसबुक पर लाइक करें और ट्विटर पर फॉलो करें। सैन समाज से जुड़ी जानकारी एवं समाचार आप हमारे माध्यम से पूरे समाज के साथ शेयर करें। यदि आपके पास कोई जानकारी या सूचना है तो हमें आवश्य भेजे। WHATSAPP NO. 8003060800.

Spread the love
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

News

Sen Jayanti 2022: 27 अप्रैल को मनाई जाएगी सैन जयंती

Published

on

sain samaj, sen community, nai community india, savita, napit,

संत सेनजी महाराज की जयंती वैशाख कृष्ण द्वादशी को आती है। इस साल यानि वर्ष 2022 में सेन जयंती 27 अप्रैल 2022, बुधवार के दिन है।

नाई समाज के आराध्य संत श्री सैन जी महाराज की जयंती 27 अप्रैल 2022 को धूमधाम से देशभर में मनाई जाएगी।

सैन जयंती के मौके पर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की तैयारियां देशभर में शुरु हो गई है। इस दिन विभिन्न शहरों में सैनजी महारजा की शोभायात्रा, कलश यात्राएं, सम्मान समारोह, रक्तदान शिविर आदि कार्यक्रम आयोजित होंगे। सैन इंडिया की ओर से इन आयोजनों का लगातार कवरेज किया जाएगा।

ऐसे में निवेदन हैं कि सैन जयंती के मौके पर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की सूचना आप हम तक आवश्य पहुंचाएं। इनका प्रकाशन सैन इंडिया डॉट कॉम पर किया जाएगा।

 

#sain_jayanti

#ssen_jayanti

#नाई_समाज

Spread the love
Continue Reading

News

सामूहिक विवाह सम्मेलन, एक नवंबर से शुरू होगा रजिस्ट्रेशन

Published

on

सैन समाज सामूहिक विवाह समिति की ओर से बसंत पंचमी को पांचवां सामूहिक विवाह सम्मेलन आयोजित किया जाएगा। यह सम्मेलन हरणी महादेव, भीलवाड़ा, राजस्थान में होगा।
संस्थापक अध्यक्ष सुरेश कुमार सेन ने बताया कि सेन समाज सामूहिक विवाह समिति, भीलवाड़ा की ओर से 5 फरवरी, 2022 बसंत पंचमी को यह सामूहिक विवाह सम्मेलन आयोजित होगा। इसके लिए पंजीकरण एक नवंबर 2021 से प्रारंभ होगा।

ई-श्रमिक कार्ड वर्कशॉप में बताया, कैसे करा सकते है नाई रजिस्ट्रेशन
इस सम्मेलन के लिए वर व वधू पक्ष से अलग-अलग 22100 रुपए पंजीकरण शुल्क तय किया है। अब तक 29 वैवाहिक जोड़ों की सूची तैयार हुई है। एक नवंबर को प्रथम दिन 11 वैवाहिक जोड़ों का पंजीकरण का किया जाएगा है। इस दिन शाम की शब्जी मंडी में पंजाब नेशनल बैंक के सामने समिति के कार्यालय का शुभारंभ भी होगा।

सैन (नाई) समाज के ताजा सामाचार प्राप्त करने के लिये फेसबुक पर लाइक करें और ट्विटर पर फॉलो करें। सैन समाज से जुड़ी जानकारी एवं समाचार आप हमारे माध्यम से पूरे समाज के साथ शेयर करें। यदि आपके पास कोई जानकारी या सूचना है तो हमें आवश्य भेजे। WHATSAPP NO. 8003060800

Spread the love
Continue Reading

News

ई-श्रमिक कार्ड वर्कशॉप में बताया, कैसे करा सकते है नाई रजिस्ट्रेशन

Published

on

workshope for e-shram card registration

ई-श्रमिक कार्ड में नाई भी अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है। इसके लिए कांकरोली में वर्कशॉप आयोजित की गई।

जयपुर। कांकरोली स्थित टीवीएस चौराहे पर स्वागत होटल में एन ए आई (नेशनल ऐसेट ऑफ इंडिया) युवा संगठन कि ई-श्रमिक कार्ड वर्कशॉप का आयोजन किया गया। वर्कशॉप में मुख्य अतिथि कांकरोली नगर परिषद चेयरमैन अशोक टांक विशिष्ट अतिथि अजमेर संभाग से संजय चौहान और उदयपुर संभाग से प्रदीप पवार एवं मनीष सैन रहे।

इस कार्यक्रम का आयोजन 7 सितंबर, मंगलवार को किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता रवि सैन उदयपुर ने की। इस अवसर पर श्रम विभाग के अधिकारी सुरेंद्र गोदारा वं NAI टीम के चीफ़ वॉलिंटियर् और श्रमिक कार्ड में हेयर ड्रेसर्स का नाम सम्मलित कराने वाले प्रमुख समाज सेवक संजय चौहान ने श्रमिक कार्ड के पंजीकरण के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने इसके फायदे बताए। इस अवसर पर एनएआई नाई कैंपन स्टीकर एवं पोस्टर तथा उदयपुर के भामाशाह अनिल कमोया उदयपुर वालों के द्वारा प्रस्तावित रजत सेन मंदिर निर्माण की परिकल्पना एवं सेन जी महाराज की रजत मूर्ति के पोस्टर का विमोचन किया गया।

सैन इंडिया में इंटरव्यू/पोस्ट के बीच विज्ञापन के लिए संपर्क करें 8003060800

कार्यक्रम की शुरुआत सैन जी महाराज के समक्ष दीप प्रज्वलित कर माल्यार्पण कर की गई। मुख्य अतिथि चेयरमैन अशोक टांक को सेन समाज द्वारा कन्या छात्रावास की जमीन हेतु ज्ञापन सौंपा गया।
कार्यक्रम में मंचासीन महेश जी का राजसमंद रवि जी जोधपुर संभाग से संजय जी महावीर जी कोटा संभाग से सतनारायण जी शंकर जी राजीव जी राधेश्याम जी लव कुश जी चित्तौड़ से धर्मेंद्र निर्वाण अजमेर से विजय जी रवि जी हेमंत जी अर्जुन जी उदयपुर संभाग से मनोज सेन डूंगरपुर से रोहन जी बांसवाड़ा से विकास सेन भीलवाड़ा एवं अन्य जिलों के अतिथियों ने एन ए आई के युवाओं को नाना लाल उदय प्रमोद कमलेश सोनू गोवर्धन पिंटू एवं मनोज जी को इस शानदार कार्यक्रम प्रस्तुतीकरण एवं आयोजन हेतु प्रमोद सेन ने धन्यवाद ज्ञापित किया।

सैन (नाई) समाज के ताजा सामाचार प्राप्त करने के लिये फेसबुक पर लाइक करें और ट्विटर पर फॉलो करें। सैन समाज से जुड़ी जानकारी एवं समाचार आप हमारे माध्यम से पूरे समाज के साथ शेयर करें। यदि आपके पास कोई जानकारी या सूचना है तो हमें आवश्य भेजे। WHATSAPP NO. 8003060800

 

Spread the love
Continue Reading
Advertisement

Facebook

कुलदेवी

My Kuldevi2 years ago

श्रीबाण माता को कुलदेवी के रूप में पूजते है ये परिवार

श्री बाण माता का मुख्य मंदिर राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में स्थित है। ब्राह्मणी माता, बायण माता और बाणेश्वरी माता जी...

Feature3 years ago

जमवाय माता को सैन समाज के कई परिवार मानते है कुलदेवी

जमवाय माता भगवान राम के पुत्र कुश के वंश कछवाहा की कुलदेवी है। सैन समाज में कुछ परिवार ऐसे हैं...

Feature3 years ago

सैन समाज के कई परिवारों की कुलदेवी है जीण माता

जीण माता कई परिवार एवं गोत्रों की कुलदेवी है। सैन समाज में भी कई गोत्र ऐसे हैं जो जीण भवानी...

Feature3 years ago

गलाना गांव में है इस गोत्र की कुलदेवी का प्राचीन मंदिर

गलाना गांव में  प्राचीन मंदिर आस्था का केंद्र है। यह गांव कोटा में जिला मुख्यालय से करीब 18 किमी दूर...

Feature3 years ago

भादरिया माता को कुलदेवी के रूप में पूजते है ये

श्री भादरिया माता का मंदिर जन-जन की आस्था का केंद्र है। विभिन्न समाजों में कई परिवारों में माता को कुलदेवी...

Feature3 years ago

कुलदेवी के रूप में होती है ‘मां नागणेची’ की पूजा

कई परिवारों में कुलदेवी के रूप में मां नागणेची की पूजा की जाती है। मां नागणेची को नागणेच्या, चक्रेश्वरी, राठेश्वरी...

Feature3 years ago

इन गोत्रों में कुलदेवी की रूप में पूजी जाती सच्चियाय माता

सैन समाज के विभिन्न गोत्रों की कुलदेवी परिचय की श्रंखला में प्रस्तुत हैं सच्चियाय माता की जानकारी। सच्चियाय माता का...

Feature3 years ago

सैन समाज के इन गोत्रों के लिये खास है हजारों साल पुराना देवी का यह मंदिर

अर्बुदा देवी मंदिर को अधर देवी के नाम से भी जाना जाता है। मां अर्बुदा, मां कात्यायनी का ही रुप...

Feature4 years ago

नारायणी धाम: पानी कितने साल से आ रहा हैं, जानकार रह जायेंगे हैरान

नारायणी धाम पर कुंड से अटूट जलधारा का रहस्य आज भी कोई नहीं जान सका है। पानी की धार लगातार...

Feature4 years ago

कर्मावती कौन थीं और कैसे बन गई नारायणी, जानिये

विजयराय और रामहेती के घर एक बालिका जन्मी। नाम रखा गया कर्मावती। सयानी होने पर उनका विवाह करणेश जी के...

Trending

Don`t copy text!