Connect with us

Uncategorized

संत झाड़ीसरा के निधन पर शोक

Published

on

समाजसेवी रामनिवास जी सैन झाड़ीसरा का निधन हो गया है। झाड़ीसरा के निधन पर राजस्थानी सेन समाज सेवा मंडल पूना के उप कोषाध्यक्ष राधाकृष्ण तंवर ने गहरी संवेदना जताई है।

समाजसेवी रामनिवास सेन झाड़ीसरा का निधन 9 मई को राजस्थान के नागौर जिले की तहसील झाड़ीसरा में हो गया। रामनिवास जी के निधन को राजस्थानी सेन समाज सेवा मंडल पूना के उप कोषाध्यक्ष राधाकृष्ण तंवर ने अपूरणीय क्षति बताई है। उन्होंने संवदेना संदेश में ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति और परिजनों को यह दु:ख सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की है।

Spread the love
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uncategorized

मंगल का सिंह राशि मे प्रवेश, जानिये किस राशि पर क्या होगा असर

Published

on

मंगल का राशि परिवर्तन ज्योतिष में अहम माना जाता है। मंगल  कर्क राशि से निकलकर मित्र सूर्य की राशि सिंह में प्रवेश कर चुका है। इसका असर सभी 12 राशियों पर पड़ना स्वभाविक है।

डॉ योगेश व्यास,
ज्योतिषाचार्य(टॉपर)
नेट,पीएच डी(ज्योतिषशात्र)
मोबाइल नंबर: 8696743637

मंगल ने अपनी राशि बदली है। अभी तक कर्क राशि में चल रहे मंगल ने अब सिंह राशि में प्रवेश किया है। यह प्रवेश 9 अगस्त को हुआ है। इसका असर समस्त राशि के जातकों पर पड़ेगा। अब 17 अगस्त से सूर्य का प्रवेश भी सिंह में होने से मंगल और सूर्य सिंह राशि में रहेंगे।

किस राशि पर क्या असर होगा

मेष राशि– लग्नेश व अष्टमेश मंगल के पंचम भाव पर से गोचर भ्रमण होने से जमीन आदि मामलों में लाभ होने की संभावना है। आय में सुधार और विवादों की समाप्ति होगी। नए कार्य होंगे, नौकरी में प्रमोशन के मौके, आर्थिक नुकसान से बचाव होगा, विद्यार्थी वर्ग के लिए उत्तम रहेगा !
वृष राशि– सप्तमेश व व्ययेश मंगल का चतुर्थ भाव पर गोचर भ्रमण होने से कुछ चिंता रहने की संभावना है। माता से विवाद हो सकता है, स्वजनों से पीड़ा, कार्य बाधा के योग, योजनाओं में फेरबदल करना पड़ सकता है।
मिथुन राशि– षष्टेश व एकादशेश मंगल का तृतीय भाव से गोचरीय भ्रमण होने से आपकी योजनाओं में सामान्य स्थिति बनाएगा। कर्ज के मामले में सुधार दिखाई देगा। नौकरी पूर्व के समान ही रहेगी और व्यापार में यात्रा का योग बनेगा। कर्मचारी परेशान कर सकते हैं, धैर्य रखकर चलें।
कर्क राशि– पंचमेश व कर्मेश मंगल का द्वितीय भाव पर गोचरीय भ्रमण होने से बाधाएं और विवाद थम जाएंगे। अपनी क्षमता का फायदा उठाने में सक्षम रहेंगे। जमीन और कर्ज संबंधी मामलों में सुधार होगा। योजनाएं सफल होंगी, भोग-विलासिता में वृद्धि देगा।
सिंह राशि– सुखेश व भाग्येश मंगल के लग्न में गोचर से सभी मंगलकारी कार्य बनेंगे और सफलता प्राप्त होगी। विशेषकर विदेश जाने वालों को सफलता प्राप्त होगी, भाग्य में वृद्धि होगी।
कन्या राशि– तृतीयेश व अष्टमेश मंगल के द्वादश गोचर से शुभ परिणामों में कमी रहेगी । यह समय जमीन और ऋण के मामलों में संभलने का है। विवादों और जोखिमों से दूर रहें। पराक्रम बढ़ेगा व दांपत्य में कष्ट अनुभव करेंगे।
तुला राशि– द्वितीयेश व सप्तमेश मंगल के एकादश गोचर से मंगल शुभकारी होगा। जीवन साथी से विवाद समाप्त होगा और मधुरता स्थापित होगी। व्यापार-व्यवसाय व धन-धान्य के मामलों में लाभ होगा !
वृश्चिक राशि– लग्नेश व षष्टेश के दशम गोचर से यह सुख और शांति प्रदान करने वाला होगा। नवीन वाहन खरीदने की योजना बन सकती है। राज्य, व्यापार व राजनीति से लाभ मिलेगा। नौकरी में प्रमोशन और यात्रा का भी योग है।
धनु राशि– व्ययेश व पंचमेश मंगल के नवम भाव पर गोचर भ्रमण से भाग्योन्नति, रोगों में लाभ और वाहन सुख प्राप्त होगा, पराक्रम में वृद्धि और बाहरी मामलों में सुधार होगा !
मकर राशि– चतुर्थेश व लाभेश मंगल का अष्टम भाव पर से गोचर शारीरक पीड़ा, आय और ऋण संबंधी समस्याएं आ सकती हैं, कारोबार में रफ्तार मध्यम हो सकती है। जोखिम पूर्ण कार्य न करें।
कुंभ राशि– पराक्रमेश व दशमेश मंगल के सप्तम भाव पर गोचर से मंगल- योजनाएं बिगाड़ सकता है। साझेदारों से बचकर रहें, धन की कमी महसूस करेंगे। स्वयं के बल पर सफलता मिलेगी।
मीन राशि– धनेश व भाग्येश मंगल के षष्ट भाव से गोचरीय भ्रमण से मंगल शुभकारी होगा। ऋण संबंधी लाभ होगा, नए घर या जमीन खरीदने की योजना बन सकती है। प्रमोशन, भाग्योन्नति, धनलाभ के साथ-साथ खर्च भी अधिक रहेगा।

*यह लेखक के अपने विचार है। ज्योतिष फलदायक न होकर फल सूचक है। किसी भी निष्कर्ष पर पहुचने से पहले कुंडली के और भी ग्रहो की स्तिथि, बलाबल को भी ध्यान में रख कर तथा किसी योग्य ज्योतिर्विद से परामर्श कर ही किसी भी निर्णय पर पहुचना चाहिए। ज्योतिष संबंधी किसी भी समाधान के लिए जयपुर कार्यालय पर या ONLINE सम्पर्क कर सकते हैं।

मोबाइल पर समाचार प्राप्त करने के लिये अपना नाम, गोत्र और शहर का नाम 8003060800 पर WHATSAPPकरें।

सैन (नाई) समाज के ताजा सामाचार प्राप्त करने के लिये फेसबुक पर लाइक करें और ट्विटर पर फॉलो करें। सैन समाज से जुड़ी जानकारी एवं समाचार आप हमारे माध्यम से पूरे समाज के साथ शेयर करें। यदि आपके पास कोई जानकारी या सूचना है तो हमें आवश्यक भेजे। अधिक जानकारी के लिये CONTACT US पर क्लिक करें।

Spread the love
Continue Reading
Advertisement

Facebook

कुलदेवी

My Kuldevi3 months ago

श्रीबाण माता को कुलदेवी के रूप में पूजते है ये परिवार

श्री बाण माता का मुख्य मंदिर राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में स्थित है। ब्राह्मणी माता, बायण माता और बाणेश्वरी माता जी...

Feature1 year ago

जमवाय माता को सैन समाज के कई परिवार मानते है कुलदेवी

जमवाय माता भगवान राम के पुत्र कुश के वंश कछवाहा की कुलदेवी है। सैन समाज में कुछ परिवार ऐसे हैं...

Feature1 year ago

सैन समाज के कई परिवारों की कुलदेवी है जीण माता

जीण माता कई परिवार एवं गोत्रों की कुलदेवी है। सैन समाज में भी कई गोत्र ऐसे हैं जो जीण भवानी...

Feature1 year ago

गलाना गांव में है इस गोत्र की कुलदेवी का प्राचीन मंदिर

गलाना गांव में  प्राचीन मंदिर आस्था का केंद्र है। यह गांव कोटा में जिला मुख्यालय से करीब 18 किमी दूर...

Feature1 year ago

भादरिया माता को कुलदेवी के रूप में पूजते है ये

श्री भादरिया माता का मंदिर जन-जन की आस्था का केंद्र है। विभिन्न समाजों में कई परिवारों में माता को कुलदेवी...

Feature1 year ago

कुलदेवी के रूप में होती है ‘मां नागणेची’ की पूजा

कई परिवारों में कुलदेवी के रूप में मां नागणेची की पूजा की जाती है। मां नागणेची को नागणेच्या, चक्रेश्वरी, राठेश्वरी...

Feature1 year ago

इन गोत्रों में कुलदेवी की रूप में पूजी जाती सच्चियाय माता

सैन समाज के विभिन्न गोत्रों की कुलदेवी परिचय की श्रंखला में प्रस्तुत हैं सच्चियाय माता की जानकारी। सच्चियाय माता का...

Feature1 year ago

सैन समाज के इन गोत्रों के लिये खास है हजारों साल पुराना देवी का यह मंदिर

अर्बुदा देवी मंदिर को अधर देवी के नाम से भी जाना जाता है। मां अर्बुदा, मां कात्यायनी का ही रुप...

Feature2 years ago

नारायणी धाम: पानी कितने साल से आ रहा हैं, जानकार रह जायेंगे हैरान

नारायणी धाम पर कुंड से अटूट जलधारा का रहस्य आज भी कोई नहीं जान सका है। पानी की धार लगातार...

Feature2 years ago

कर्मावती कौन थीं और कैसे बन गई नारायणी, जानिये

विजयराय और रामहेती के घर एक बालिका जन्मी। नाम रखा गया कर्मावती। सयानी होने पर उनका विवाह करणेश जी के...

Trending

Don`t copy text!